Bhaderwah

2 posts

अ वीकेंड ट्रिप टू भदरवाह – जम्मू का ‘मिनी कश्मीर’ | पार्ट 2 | बावरे बंजारे ट्रैवलॉग्स

सुबह अपना कैमरा उठाया और गांव में घूमने निकल पड़े. गांव के सभी घर, घाटी की एक साइड, थोड़ी-ऊंचाई पर बसे हुए थे. सामने वाला पहाड़ पेड़ों का घुप्प जंगल था. बढ़िया धूप खिली हुई थी और गांव के लोग अपने खेतों में जाने की तैयारी कर रहे थे. घाटी से एक नाला होकर निकलता है, जो आगे नीरू धारा में जाकर मिलता है. नीरू धारा भदरवाह टाउन से होते हुए डोडा जाकर चेनाब नदी में मिल जाती है. हमने इसी नाले के साथ साथ ऊपर की ओर चलना शुरू कर दिया. रास्ते में कई लोग अपनी भेड़- बकरियों के साथ जाते दिखे, हम भी इन्हीं के साथ साथ चलते गए, बातें करते गए. कई लोग अपने परिवारों और अपने बैलों के साथ खेतों में काम कर रहे थे. सुबह की धूप और हवा में मिट्टी से उठती खुशबु घुलकर ऐसे चढ़ रही थी कि चलने का अलग ही सुर बन चुका था. हम लोग फ़ोटो खींचते, रुकते, चले जा रहे थे.

इस पोस्ट को आप यहाँ से डायरेक्टली शेयर कर सकते हैं, जस्ट इन केस यू वर थिंकिंग अबाउट इट!
  •  
  •  
  •  
  •  
Village Homes in Bhaderwah

अ वीकेंड ट्रिप टू भदरवाह – जम्मू का ‘मिनी कश्मीर’ | पार्ट 1 | बावरे बंजारे ट्रैवलॉग्स

जम्मू बस स्टॉप से पहले हमने भदरवाह के कोई डायरेक्ट बस देखी — अगर मिल जाती तो डोडा से नहीं बदलनी पड़ती. पर जम्मू से हमें डोडा के लिए ही बस मिली! जम्मू कश्मीर की लोकल बसों में घूमना जरूर बनता है. HRTC से एकदम अलग एक्सपीरियंस है. यहाँ की बसें, बसें कम, रंग बिरंगे, सजे हुए ट्रक ज़्यादा लगते हैं. और इनमें सफ़र करने वाले लोग, बस अब क्या ही बताया जाए!

इस पोस्ट को आप यहाँ से डायरेक्टली शेयर कर सकते हैं, जस्ट इन केस यू वर थिंकिंग अबाउट इट!
  •  
  • 60
  •  
  •  
    60
    Shares